Hot
#आध्यात्म

कर्पूर गौरं करुणावतारम मंत्र का हिन्दी अर्थ – Karpur Gauram Mantra Hindi Meanning


हर आरती या पूजा के बाद ‘ कर्पूर गौरं करुणावतारम ‘ का जाप अवश्य किया जाता है। क्यूंकी इस मंत्र को सर्वप्रथम भगवान श्री विष्णु ने भगवान शिव और माता पार्वती जी के विवाह में प्रयोग किया था। पवित्र मंत्र भगवान शिव को समर्पित है। और इसे हिन्दू धर्म में सबसे अधिक शक्तिशाली मंत्र माना जाता है।
इस पवित्र और शक्तिशाली मंत्र का अर्थ जानिए –

कर्पूर गौरम करुणावतारम मंत्र का अर्थ :

कर्पूरगौरम कर्पूर के समान गोरे वर्ण वाले।

करुणावतारम – करुणा के जो साक्षात अवतार हैं।

संसारसारं – समस्त सृष्टि के जो सार हैं।

भुजगेंद्रहारम – जो सांप को हार के रूप में धारण करते हैं।

सदा वसंतम हृदयार्विविन्दे जीस् प्रकार कमल का फूल कीचड़ में भी खिलकर सदैव शुद्ध राहत है और सुगंध देता है
उसपर आस-पास की कीचड़ का कोई प्रभाव नहीं होता उसी प्रकार भगवान शिव भी सदैव
प्राणीयों के हृदय में रहते हैं।

भवं – भगवान

भवानी सहीतम नमामि – देवी भवानी ( माता पार्वती जी ) और भगवान शिव जी को में प्रणाम करता हूँ।



Poated by – Anirudh Kumar

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *