Hot
#यात्रा

14 Best Places to visit in Madhya Pradesh/ मध्यप्रदेश में घूमने के लिए 14 सबसे अच्छे स्थान ।

भारत का हृदय मध्यप्रदेश अपने अंदर समृद्ध विरासत, धार्मिक तीर्थस्थल, विविध संस्कृतियां, मनमोहक वन्य जीवन ओर हर कुछ किलोमीटर पर बोली एवं जीवनशैली में विविधताओं को संजोए हुए हे । तो चलिए इस अद्भुत और रोमांचक सफर के लिए तैयार हो जाइए।

1.खजुराहो

खजुराहो भारतीय वास्तुकला ओर कला के अद्भुत प्रदर्शन से आपको मंत्रमुग्ध कर देगा । किसी भी इतिहास प्रेमी और कला प्रेमी के लिए खजुराहो के मंदिर एवं स्मारकों का भ्रमण अवश्य करना चाहिए । जटिल नक्काशियां और कामुक मूर्तियां आपको बीते युग की शिल्प कला से प्यार करने पर मजबूर कर देंगी । यहां के भ्रमण का आनंद बिलकुल अतुलनीय है

खजुराहो UNESCO वर्ल्ड हेरिटेज साइट के अंतर्गत आता हे।

2.ग्वालियर

ग्वालियर अपने अंदर राज्य के गौरवशाली अतीत राजवंशों और उनकी वीरता को संजोए हुए हे। पहाड़ी पर स्थित विशाल किले से घिरा यह शहर अनेकों ऐतिहासिक स्मारकों से भरा हुआ है । इतिहास में रुचि रखने वाले स्वत: ही सिंधिया राजवंश की भूमि की ओर आकर्षित हो जाते हे । महान संगीतकार तानसेन की इस भूमि ने संगीत के छेत्र में अतुलनीय प्रतिष्ठा प्राप्त की ।

ग्वालियर के पर्यटक आकर्षण

• ग्वालियर का किला

• तेली का मंदिर

• मानसिंह का किला

• तिगरा डैम

• गोपाचल पर्वत

• सूर्य मंदिर

• सिंधिया म्यूजियम

• जय विलास पैलेस

• मन मंदिर पैलेस

• माधव नेशनल पार्क

• गुजरी महल आर्कियोलॉजिकल म्यूजियम

• तानसेन म्यूजिक फेस्टिवल

अक्टूबर से फरवरी का समय ग्वालियर घूमने के लिए सबसे अच्छा है।

3.ओरछा

बेतवा नदी के तट पर बसा ओरछा शहर शानदार स्मारकों का गढ़ हे । मध्यप्रदेश के इस लोकप्रिय ऐतिहासिक स्थल का अद्वितीय मध्ययुगीन आकर्षण पर्यटकों का मन मोह लेता हे। भित्तिचित्र, शास्त्रीय भित्तिचित्र, मंदिरों की भव्यता और हवेलियां ओरछा की दुनिया भर ने लोकप्रियता का कारण हे। पर्यटकों के लिए बेतवा नदी पर सूर्यास्त देखने का अनुभव अत्यंत रोमांचक होगा ।

ओरछा के पर्यटक आकर्षण

• ओरछा किला

• जहांगीर महल

• राजा महल

• राजा राम मंदिर की संध्या की आरती

• चतुर्भुज मंदिर

• ओरछा वन्यजीव अभयारण्य

• दिनमान हरदौल का महल

• पालकी महल

• ओरछा की छत्रियां

• बेतवा नदी में नौकायन और रिवर राफ्टिंग

अक्टूबर से नवंबर का समय ओरछा घूमने के लिए सर्वश्रेष्ठ हे।

4.मांडू

मांडू या मांडवगढ़ छ्ठी शताब्दी ईसा पूर्व के वास्तुशिल्प और गौरवशाली इतिहास का खजाना हे । भव्य मंदिर शहर में राजसी आकर्षण जोड़ते हैं। ” प्राचीन भारत के हम्पी ” के रूप में भी जाना जाने वाला यह अनोखा शहर मध्यप्रदेश के दर्शनीय स्थलों में से एक हे । मांडू आपको बचपन की मनमोहक कहानियों की याद दिलाता हे जो शायद अपने सुनी होंगी ।

मांडू का पर्यटक आकर्षण

• जहाज महल

• मांडू का किला

• हिंडोला महल

• नीलकंठ महल

• रीवा कुंड

• बाघ की गुफाएं

• रूपायन संग्रहालय

अक्टूबर से मार्च का समय मांडू घूमने के लिए सबसे अच्छा है।

5.उज्जैन

उज्जैन की पवित्र भूमि बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर मंदिर का पवित्र निवास है । हिंदुओं के साथ सबसे पवित्र शहरों में से एक गिना जाने वाला उज्जैन शहर धार्मिक दृष्टिकोण से अत्यंत महत्वपूर्ण है। हर दिन हजारों भक्तगण बाबा महाकाल के दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त करते है। शिप्रा नदी के किनारे स्थित इस प्राचीन शहर में हर 12 वर्षों में आयोजित होने वाले कुंभ मेले के दौरान लाखो श्रद्धालु उमड़ते हैं। बाबा महाकाल के भक्तों को उज्जैन की यात्रा की योजना अवश्य बनाना चाहिए।

उज्जैन के पर्यटक आकर्षण

• श्री महाकालेश्वर मंदिर

• शिप्रा घाट

• राम घाट

• मंगलदेव मंदिर

• कालभैरव मंदिर

• वेद शाला

• गोपाल मंदिर

• हरसिध्दि मंदिर

• संदीपनी आश्रम

6.सांची

शांति से परिपूर्ण, सांची शहर प्रसिद्ध बौद्ध स्तूपों का गढ़ है। जो UNESCO world Heritage site के अंतर्गत आता हे। मौर्य साम्राज्य के महान सम्राट अशोक ने तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व सांची शहर में बौद्ध स्तूपों की स्थापना की थी। अनगिनत मंदिर, मठ, अशोक स्तंभ ओर बौद्ध स्मारक सांची शहर के आकर्षण हैं । महत्वपूर्ण बौद्ध तीर्थस्थलों में से एक सांची शहर बौद्ध तीर्थयात्रियों, इतिहास प्रेमियों, पर्यटन के शौकीनों के लिए एक बेहतर विकल्प है।

सांची के पर्यटक आकर्षण

• द ग्रेट बाउल

• सांची स्तूप

• पूर्वी प्रवेश द्वार ( the eastern gateway )

• अशोक स्तंभ

• गुप्त मंदिर

• बौद्ध विहार

• उदयगिरी की गुफाएं

• तारण

7.पंचमढ़ी

” सतपुड़ा की रानी ” की उपाधि हासिल करने वाला पचमढ़ी मध्यप्रदेश के एकमात्र हिल स्टेशन है। पुराने इतिहास और असंख्य प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर यह हिल स्टेशन यादगार छुट्टियां बिताने के लिए एक सर्वश्रेष्ठ विकल्प है । UNESCO Biosphere Reserve में सूचीबद्ध यह स्थान इतना अनूठा हे की हिंदू महाकाव्य महाभारत के पांडवों ने भी अपने निर्वासन के दौरान यहां कुछ दिन बिताए थे, वह स्थान पांडव गुफाओं के नाम से प्रसिद्ध है। अत्यंत सुंदर प्राकृतिक वातावरण में पर्यटक अक्सर छुट्टियों में अपने परिवार के साथ यहां आते हे ।

पचमढ़ी के पर्यटक आकर्षण

• रजत प्रपात ( भारत का सबसे ऊंचा जलप्रपात )

• सतपुड़ा नेशनल पार्क

• चौरा गढ़ मंदिर

• धूप गढ़

• जटाशंकर की गुफाएं

• पांडव गुफाएं

• हांडी खोह

• बी फॉल

• अप्सरा विहार

• बाइसन लॉज

• महादेव हिल्स

• प्रियदर्शिनी प्वाइंट

• बड़े महादेव

• रींछगढ़

• राजेंद्रगिरी सनसेट प्वाइंट

• गुप्त महादेव

पचमढ़ी पूरे साल घूमने के लिए अच्छा हे परंतु गर्मियों में परिवार के साथ इस हिल स्टेशन की यात्रा अत्यंत अनदमयी हो जाती है ।

8.चित्रकूट

चित्रकूट का वर्णन रामायण में भगवान श्री राम, माता सीता ओर लक्ष्मण जी के 14 वर्ष के वनवास के दौरान मिलता है। यही कारण हे की यह शहर एक पवित्र स्थल के रूप में माना जाता है। ” अनेक आश्चर्यों के स्थान ” की उपाधि धारण करने वाले इस शहर का नाम चीतल ( हिरण ) की इस छेत्र में उपस्तिथि के कारण हुआ ।

चित्रकूट के पर्यटक आकर्षण

• राघव प्रयाग घाट

• कामदगिरि

• भरतमिलाप मंदिर

• सारी अंसुइया आश्रम

• जानकी कुण्ड

• स्फटिक शिला

• गुप्त गोदावरी

• हनुमान धारा

• राम शैय्या

• लक्ष्मण चौकी

• मयूर्ध्वज आश्रम

• प्रमोद वन

• सरयू धारा

• विराध कुंड

• काली बारह फॉल

• शबरी फॉल

चित्रकूट पूरे साल पर्यटन के लिए उपर्युक्त है।

9.भीमबेटिका

जयसे ही आप भीमबेतिका के रॉक शेल्टरों से गुजरेंगे, आप भारत के बीते ऐतिहासिक युग की झलक देखकर आश्चर्यचकित हो जायेंगे। UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित भीमबेटका दक्षिण एशियाई पाषाण युग की शुरुआत को दर्शाते हैं। इस स्थान का नाम पांच पांडवों में से एक सबसे बलिष्ठ भीम के बैठने के स्थान के रूप में रखा गया है। भीमबेटका में उपस्थित कुल 750 गुफाओं में से 500 गुफाओं को सुंदर कर विशिष्ट 30,000 वर्ष पुरानी पेंटिंग से सजाया गया है।

भीमबेटका के पर्यटक आकर्षण

• द रॉक केव्स

• भोजपुर

• विशाल बाइसन की मनुष्य पर हमला करती हुई रॉक पेंटिंग जो तभी दिखाई देती है जब सूर्य की किरणे सही दिशा में पड़े

• बोअर रॉक

• जू रॉक

• ऑडिटोरियम रॉक शेल्टर

बारिश का समय छोड़कर आप किसी भी समय भीमबेटका घूमने का आनंद ले सकते है।

10.कान्हा नेशनल पार्क

कान्हा नेशनल पार्क मध्यप्रदेश के मंडला जिले में स्थित हे यह इतना आकर्षक हे की इससे प्रभावित होकर उपन्यासकार रुडयार्ड किपलिंग को अपना प्रसिद्ध उपन्यास ” द जंगल बुक ” लिखने की प्रेरणा मिली । स्वैंप डियर ओर बारहसिंघा जैसी लगभग विलुप्त प्रजातियां इस राष्ट्रीय उद्यान में अपने प्राकृतिक आवास में रहती हैं। लोग मध्यप्रदेश के इस लोकप्रिय कान्हा टाइगर रिजर्व में ” रॉयल बंगाल टाइगर ” को देखने के लिए आते हैं। जिनकी यहां अच्छी संख्या है। कान्हा नेशनल पार्क में पक्षियों की लगभग 350 प्रजातियां पाई जाती हैं।

कान्हा नेशनल पार्क के पर्यटक आकर्षण

• बामनी दादर का सूर्यास्त का दृश्य

• जीप सफारी

• कान्हा म्यूजियम

• तरह तरह के अद्भुत पक्षियों की प्रजातियां

• कवर्धा पैलेस

• कान्हा मीडोज

• सौंफ मीडोज

• श्रवण तल

• सिंदूर के पेड़

कानहा नेशनल पार्क में आप कभी भी आकर के वन्यजीव का आनंद ले सकते हैं।

11.पेंच नेशनल पार्क

मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र की सीमा पर स्थित पेंच नेशनल पार्क मध्यप्रदेश के शहर सिवनी के नजदीक हे । यह नेशनल पार्क विभिन्न जीवों और वनस्पतियों का घर हे । वन्यजीवन में रुचि रखने वाले पर्यटकों के लिए पेंच नेशनल पार्क सबसे अच्छी जगहों में से एक है। पार्क में बहती पेंच नदी इसकी सुंदरता को ओर बढ़ा देती है ।

पेंच नेशनल पार्क के पर्यटक आकर्षण

• कोलरवाली

• गिद्धों की चार लुप्तप्राय प्रजातियां

• तेंदुए

• पेंच नदी में नाव की सवारी

• पियोरठाढ़ी

• बाघिन नाला

• एवियन कैपिटल

• सीताघाट

12.पन्ना नेशनल पार्क

पन्ना एवं छतरपुर जिले में स्थित पन्ना नेशनल पार्क मध्यप्रदेश के लोकप्रिय आकर्षणों में से एक के रूप में गिना जाता है। पन्ना नेशनल पार्क में रॉयल बंगाल टाइगर की उपस्तिथि के कारण वन्यजीवन में रुचि रखने वाले पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। पार्क के बीच से बहती केन नदी के झरना का दृश्य इसे ओर भी लुभावना बना देता हे। वन्यजीवन ओर प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद लेने के लिए पन्ना टाइगर रिजर्व एक अच्छा विकल्प हे ।

पन्ना नेशनल पार्क के पर्यटक आकर्षण

• एलिफेंट सफारी

• नाव की सवारी

• जीप सफारी

• केन घड़ियाल अभ्यारण्य

• रैना फॉल्स

वान्यजीवन में रुचि रखने वाले पर्यटक यहां साल में कभी भी आकर आनंद ले सकते हैं।

13. माधव नेशनल पार्क

मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में स्थित माधव नेशनल पार्क घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है। यहां पर भारतीय चिंकारा, ब्लैकबक, नीलगाय ओर चुसिंघा जैसी असंख्य वन्यजीवों की प्रजातियों को देखा जा सकता है। इस पार्क का नाम ग्वालियर के महाराजा माधवराव सिंधिया जी के नाम पर रखा गया है। 157 वर्ग किमी में फैले इस प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर इस पार्क ने मराठा राजघरानों और मुगल काल के प्रिय शिकारगाह के क्षणों को देखा है ।

माधव नेशनल पार्क के पर्यटक आकर्षण

• साख्य सागर झील

• नौकायन क्लब

• जॉर्ज कासल

• भदैया कुंड

14.बांधवगढ़ नेशनल पार्क

भारत के जंगलों में से अच्छा राष्ट्रीय उद्यान बांधवगढ़ नेशनल पार्क हे। पक्षियों की 250 प्रजातियां, स्तनधारियों की 37 प्रजातियां, जलीय जीवों की 80 प्रजातियां ओर सफेद बाघों देखने के लिए इस राष्ट्रीय उद्यान से अच्छी कोई और जगह नही हे। वन्यजीवन को भ्रमण करने के शौकीन यहां रॉयल बंगाल टाइगर्स को देखकर भरपूर आनंद ले सकते हैं। एक दौर में महाराजाओं की शिकारगाह रहा ये पार्क मध्यप्रदेश के उमरिया जिले में स्थित हे । बाघों को करीब से देखने का अनुभव यहां का मुख्य पर्यटक आकर्षण है।

बांधवगढ़ नेशनल पार्क के पर्यटक आकर्षण

• बांधवगढ़ किला

• सफेद बाघ

• बाइसन

• नीलगाय

• एलिफेंट सफारी

• जीप सफारी

• शेष शैय्या

• बड़ी गुफा

• थ्री केव प्वाइंट

• ज्वालामुखी मंदिर

शौकीन पर्यटक यहां साल के किसी भी समय आकर के आनंद ले सकते हैं।

– अनिरुद्ध परसाई

14 Best Places to visit in Madhya Pradesh/  मध्यप्रदेश में घूमने के लिए 14 सबसे अच्छे स्थान ।

OMG 2 Trailer / आज OMG 2

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *